राजस्थान

कामां के सरकारी चिकित्सालय में भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर, प्रसूताओं से होती है जबरन अवैध वसूली, हॉस्पिटल के हालात हुए बद से बदतर

हिन्दुस्तान पत्रिका/ भरतपुर-कामां ब्यूरो रिपोर्ट/कपिल वशिष्ठ

==================================================================

राज्य सरकार द्वारा चिकित्सा के क्षेत्र में बेहतर सुविधा देने के लिए अनेकों तरह की योजनाएं चला रही हैं लेकिन तमाम योजनाओं की खुलेआम  धज्जियां उड़ा कर भ्रष्टाचार का खुला खेल खेला जा रहा है।

मानो राजकीय चिकित्सालय न होकर जंगलराज कायम हो। जिसका जीता जागता उदाहरण भरतपुर जिले के कामांं कस्बे  के सबसे बड़े अस्पताल में प्रसव कराने आई प्रसूता दर्द से तड़पती रही लेकिन चिकित्सक कर्मियों द्वारा प्रसूता के परिजनों के बार बार कहने के बाद भी कोई फरियाद नहीं सुनी गई । अस्पताल में लाइट जाने पर जनरेटर भी नहीं चलाया गया। अस्पताल में भर्ती प्रसूताओं  के परिवारजनों द्वारा हाथ के पंखे से हवा की जा रही थी जिसे लेकर अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही सामने आई है।

 सबसे बड़े आश्चर्य की बात तो यह है कि अस्पताल प्रशासन द्वारा प्रसव कराने आई महिलाओं से मोटा सुविधा शुल्क वसूल किया जाता है। सुविधा शुल्क नहीं देने पर जिला अस्पताल रेफर करने की धमकी दी जाती है। साथ ही अस्पताल की जच्चा बार्ड में खुलेआम कुत्ते घूम रहे हैं जो किसी दिन किसी बड़े हादसे को अंजाम दे सकते हैं लेकिन इस और चिकित्सा विभाग के अधिकारी कर्मचारियों का कोई ध्यान नहीं है।वार्डों में गंदगी के ढेर लगे हुए है।बैडों पर प्रसूताओं को गंदी चद्दरों पर सोने को मजबूर होना पड़ रहा है।जिससे नवजात बच्चों में इंफेक्शन भी हो सकता है। कचरा पात्र भी जगह जगह खुले पड़े है।लेकिन अस्पताल के जिम्मेदार कर्मचारी सिर्फ चौथ बसूली में लिप्त है।राज्य सरकार की योजनाओं से कोई मतलब नही है।
कामांं कस्बा के रामजी गेट मोहल्ला निवासी प्रसूता अस्पताल में प्रसव कराने के लिए बुधवार दोपहर को पहुंच गई। जहां पूरा दिन निकलने के बाद देर रात्रि को दर्द से तड़पती रही प्रसूता के परिवारजनों ने अस्पताल में हल्ला गुल्ला किया तब जाकर ड्यूटी पर मौजूद नर्स द्वारा प्रसूता को प्रसव कक्ष में ले जाकर इतिश्री कर दी और बोल दिया कि अभी बच्चा नहीं होगा टाइम लगेगा लेकिन प्रसूता दर्द से तड़पती रही जिसे लेकर अस्पताल प्रबंधन पर अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजनों द्वारा सुविधा शुल्क लिए जाने का भी आरोप लगाया। सुविधा शुल्क नहीं दिए जाने पर जिला अस्पताल रेफर कर दिया जाता है। अस्पताल में पाई गांव से प्रसव कराने आई महिला से प्रसव कराने के नाम पर मोटी सुविधा शुल्क की मांग की गई। जिस पर उनके द्वारा पांच सौ रुपए प्रसव कराने के नाम पर ले लिए गए लेकिन उसके बाद भी उनसे और सुविधा शुल्क मांगा गया उनके द्वारा सुविधा शुल्क नहीं दिया गया तो उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया लेकिन रेफर करने के कुछ देर बाद ही अस्पताल में प्रसव हो गया जिससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है। प्रसव कराने के नाम पर प्रसूताओं के परिवारजनों से अस्पताल प्रबंधन द्वारा मोटा सुविधा शुल्क वसूल किया जाता है जिसे लेकर प्रसूताओं के परिवारजनों ने अस्पताल प्रबंधन के विरुद्ध नाराजगी जताई है । 

प्रशासन ने क्या कहा-

वहीं जब इस संदर्भ में ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी से जानकारी की गई तो उन्होंने बताया कि रिश्वतखोर कार्मिकों के खिलाफ जांच रिपोर्ट पहले भी उच्चाधिकारियों को सौंपी जा चुकी है।लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नही की गई है ।जिससे साफ प्रतीत होता है कि कहीं न कहीं प्रसूताओं से हो रही वसूली में से हिस्सा राशि ऊपर तक बांटी जा रही है । जिस कारण नीचे से लेकर ऊपर तक सभी ने आंखे बंद की हुई है।हालांकि चिकित्सा विभाग के उच्चाधिकारियों को दूरभाष पर अस्पताल प्रबंधन की शिकायत भी की गई। 

अब देखना यह है कि उच्च अधिकारी इनके विरुद्ध कोई ठोस कार्रवाई करते हैं या फिर ऐसे ही अस्पताल में खुलेआम प्रसूताओं से सुविधा शुल्क लेने का खेल चलता रहेगा।

Written By

Ramakant Goswami

STATE HEAD (RAJ.)

Related News

All Rights Reserved & Copyright © 2015 By HP NEWS. Powered by Ui Systems Pvt. Ltd.

BREAKING NEWS
प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन पर वसुंधरा राजे व मुख्यमंत्री गहलोत ने दी बधाई | नहर में शव मिलने पर फैली सनसनी, मृतक के भाई ने लगाया हत्या का आरोप | प्रदेश में निकाय चुनाव में 193 निकायों में 7290 वाॅर्ड, 2396 पर सिर्फ महिलाएं लड़ेंगी चुनाव | घर के बाहर खेल रहे नौ साल के बच्चे को आवारा कुत्तो ने नोचा , इलाज के दौरान हुई मौत | दौसा ; रोडवेज बस ने बाइक सवार को टक्कर मारी , बाईक सवार युवक की मौके पर हुई मौत | राज्यपाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को हिमाचली टोपी शॉल ओढ़ाकर किया स्वागत | हनी ट्रैप मामले का पर्दाफाश करते हुए एक महिलाा सहित दो आरोपियों को किया गिरफ्तार | पचास वर्ष का युवक पांच महीने तक करता रहा नाबालिक से दुष्कर्म , हुआ खुलासा | टीचर ने छात्रा को ब्लैकमेल कर दो महीने तक किया बलात्कार , गिरफ्तार | पत्नी से झगड़ा होने पर गुस्साए पति ने पत्नी को पत्थर से कुचलकर मारा , इलाज के दौरान हुई मौत |